होम लोन लेने से पहले ध्यान रखने योग्य 5 बातें !

5 Tips To Consider Before Availing A Home Loan

जो लोग घर या संपत्ति खरीदने के लिए होम लोन लेना चाहते हैं तो उनका लोन अप्रूव होगा या नहीं इसके लिए बैंक को कॉल कर सकते हैं और वे सारी बातें विस्तार से समझा देंगे। हालांकि बैंक लोन लेने की प्रक्रिया थोड़ी दी कठिन हो सकती है, परन्तु अगर बैंक द्वारा दिए गए शर्तों पर आप खरे उतारते हैं तो लोन आसानी से प्राप्त हो जायेगा। अगर आपने हाल ही में होम लोन लिया है तो आपको पांच चीजें जाननी जरुरी है, जिसके बारे में हम चर्चा कर रहे हैं।

पार्ट-पेमेंट या फोरक्लोजर कॉस्ट

जहाँ तक पार्ट-पेमेंट की बात आती है, तो बकाया राशि की एक खास राशि का प्री-पेमेंट करना आवश्यक होता है। फौजदारी अर्थात फोरक्लोजर के मामले में, पूरी बकाया राशि का पूर्व भुगतान करना आवश्यक है। होम लोन के लिए अप्लाई करते समय, लोग प्रीपे या फोरक्लोज पर ध्यान नहीं देते हैं; जबकि, आपको इन विकल्पों की जांच अवश्य करनी चाहिए।

जब प्री-पेमेंट की बात आती है, तो इससे जुड़े सभी शुल्कों को समझना महत्वपूर्ण है। यदि आप इसे चुनने का निर्णय लेते हैं तो यह उच्च लागत को कम करने में मदद करता है। इसके अलावा, सुनिश्चित करें कि आप इस विकल्प के साथ आने वाली किसी भी लॉक-इन अवधि को समझते हैं कि क्या पहले 12 महीनों के पहले प्री-पेमेंट की अनुमति है या नहीं। कुछ बैंक लॉक-इन पीरियड को महत्व देते हैं, तो एक बार इसे भी अवश्य देख लेना चाहिए।

Personal Finance 34

ब्याज दर को अवश्य देख लें

होम लोन की ब्याज दर जितनी कम होगी, घर खरीदने वाले के लिए उतना ही अच्छा होगा। यह आपके चुकौती शुल्क के बोझ को कम करता है। बैंक फिक्स्ड और फ्लोटिंग ब्याज दर पर काम करते हैं। फिक्स्ड ब्याज दर समय के साथ भिन्न नहीं होती है। दूसरी ओर, फ्लोटिंग ब्याज दर, किसी विशेष अवधि में प्रचलित बाजार स्थितियों के आधार पर उतार-चढ़ाव करती हैं। कभी कम कभी अधिक हो सकती है। इसलिए आप सभी के बारे में समझ कर ही चयन करें।

मासिक चुकौती राशि अर्थात ईएमआई पर विशेष ध्यान दें

ईएमआई (मासिक किस्त) हर महीने किये जाने वाले भुगतान से सम्बंधित है जो आपको अपने बैंक को करना होता है। आपसे मूल मासिक भुगतान के साथ ब्याज भी लिया जाता है। आपकी ईएमआई आपकी कुल आय के 30% से अधिक नहीं होनी चाहिए। इसके अलावा, अगर कोई अन्य लोन चल रहा है तो उसे भी ध्यान में रखना चाहिए।

बैंक आमतौर पर आपकी ईएमआई तय करने से पहले चुकौती अवधि, मूल राशि और ब्याज दर को देखते हैं। आपको आपकी पूरी लोन अवधि का विवरण मिल जाता है, इसलिए यह आवश्यक है कि आप नियमित अंतराल पर इस सूची को देखें। यह आपको बैंक की ब्याज दर या लोन अवधि में किसी भी बदलाव का अपडेट भी देता है।

सही समय पर बैलेंस ट्रांसफर करना

यदि आपने पहले से होम लोन लिया हुआ है, तो आप ब्याज दर में कमी के लिए अपने मौजूदा बैंक से संपर्क कर सकते हैं। कुछ मामलों में, यह आपको वर्तमान ब्याज दरों की तुलना में अच्छी छूट प्राप्त करने में मदद करता है। यदि आपका बैंक आपको यह लाभ नहीं देता है, तो आप किसी अन्य बैंक में बैलेंस ट्रांसफर करने के बारे में सोच सकते हैं। सभी आवश्यक और उपलब्ध जानकारी को एक साथ करके, सटीक तरीके से तुलना करें और लोन को अंतिम रूप देने से पहले बैंक से बातचीत करें।

Personal Finance Mobile 14

लोन की सुरक्षा की जाँच करें

होम लोन लेते समय, उधारकर्ता लोन की गारंटी के रूप में अपनी संपत्ति प्रदान करता है। इस परिस्थिति को देखते हुए, होम लोन के लिए संपत्ति वह संपत्ति है जिसे आप खरीदने वाले हैं। लोन चुकाने में विफल रहने से बैंक को इस संपत्ति को बेचने का पूरा अधिकार है। यह महत्वपूर्ण है कि आप इन नियमों और शर्तों का अच्छी तरह से विश्लेषण करें और यहां तक ​​कि अपनी स्थिति के लिए सबसे अच्छे और सबसे अनुकूल एक को अंतिम रूप देने से पहले कई बैंकों में पता करें।

इन पहलुओं का पालन करने से आपको सर्वश्रेष्ठ होम लोन डील मिलती है और आपको इस बात की व्यापक समझ मिलती है कि एक बार लोन लेने के बाद आपको क्या करना चाहिए। यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक दस्तावेज रहने चाहिए ताकि होम लोन का प्रोसेस तेज और प्रभावी तरीके से हो सके।

nv-author-image

Neetin Shekhar

The main purpose of our Bankloanmarket blog is to make information related to loan, finance, credit card, share market accessible to the people. The purpose of creating this blog is only so that people can get the correct information about the bank or stock market. Through this blog, I have tried to share my knowledge related to finance. I hope you like it.