पर्सनल लोन के लिए सिबिल स्कोर कितना होना चाहिए | Loan Ke Liye CIBIL Score Kitna Hona Chahiye

Loan Ke Liye Cibil Score Kitna Hona Chahiye

इस लेख में हम जानेंगे कि भारत में पर्सनल लोन के लिए कितना सिबिल स्कोर होना आवश्यक है ?

Table of Contents

जब आप किसी बैंक में पर्सनल लोन के लिए अप्लाई करते हैं तो बैंक द्वारा कई कारक देखे जाते हैं। उधारदाताओं के पास कुछ पात्रता शर्तें होती हैं जैसे आपकी उम्र, वर्तमान आय, रोजगार की स्थिति, नौकरी की प्रकृति आदि और इन पहलुओं पर बारीकी से आकलन किया जाता है। इनके अलावा, आवेदक की साख और पुनर्भुगतान क्षमता को मापने के लिए महत्वपूर्ण मापदंडों में से एक है उनका सिबिल स्कोर।

पर्सनल लोन के आवेदन को अप्प्रूव होने के लिए सिबिल स्कोर का महत्त्व बहुत अधिक है। ऐसा इसलिए है क्योंकि पर्सनल लोन एक असुरक्षित लोन है और इसलिए इसमें किसी गारंटर की आवश्यकता नहीं होता है। ऋणदाता पर्सनल लोन के लिए क्रेडिट योग्यता को मापने के लिए सिबिल स्कोर पर निर्भर करता है, जिससे उनका क्रेडिट जोखिम काफी हद तक कम हो जाता है।

लेकिन प्रश्न यह है कि पर्सनल लोन के लिए न्यूनतम सिबिल स्कोर क्या है? आइए क्रेडिट स्कोर को समझते हैं और जानते हैं कि भारत में पर्सनल लोन के लिए कितना सिबिल स्कोर आवश्यक है:

पर्सनल लोन के लिए न्यूनतम क्रेडिट स्कोर क्या है?

पर्सनल लोन के लिए कितना सिबिल स्कोर आवश्यक है ? इस प्रश्न का उत्तर देने से पहले, आइए समझते हैं कि क्रेडिट स्कोर क्या है और इसे कैसे मापा जाता है। क्रेडिट स्कोर व्यक्ति की प्रोफाइल का संकेतक होता है। इसे 300-900 के पैमाने पर मापा जाता है। क्रेडिट स्कोर के मूल्यों की व्याख्या इस प्रकार की जाती है:

  • 800 से 900 के बीच एक क्रेडिट स्कोर को सबसे उच्च माना जाता है
  • 750 से 800 के बीच के क्रेडिट स्कोर को अच्छा माना जाता है
  • 625 से 750 के बीच के क्रेडिट स्कोर को औसत माना जाता है
  • 625 से नीचे के क्रेडिट स्कोर को खराब माना जाता है

इस प्रकार, भारत में पर्सनल लोन लेने के लिए 750 तक के क्रेडिट स्कोर को आदर्श माना जाता है। यह उधारकर्ता को सबसे अनुकूल नियमों और शर्तों पर लोन प्राप्त करने में मदद करता है। हालांकि, 750 से कम क्रेडिट स्कोर वाले आवेदक भी पर्सनल लोन के लिए आवेदन कर सकते हैं, लेकिन ऋणदाता औसत क्रेडिट स्कोर वाले लोगों से अधिक ब्याज दर वसूल करता है।

भारत में पर्सनल लोन लेने के लिए पात्रता मानदंड

सामान्य जरुरी बातेंशर्तें
आयुउधारकर्ताओं की आयु 21 से 65 वर्ष के बीच होनी चाहिए।

अधिकतम ऋण अवधि उधारकर्ता की आयु पर निर्भर करती है।

क्रेडिट स्कोरअच्छा क्रेडिट स्कोर 750 या इससे ऊपर माना जाता है।

कम क्रेडिट स्कोर 650 या इससे नीचे माना जाता है।

आय अनुपात के लिए निश्चित दायित्वआय अनुपात के लिए मौजूदा दायित्व 50% से कम होना चाहिए
कार्य प्रोफ़ाइल
  • वेतन लेने वाले
  • खुद का व्यवसाय वाले
  • स्व-नियोजित गैर-पेशेवर जैसे – डॉक्टर, चार्टर्ड एकाउंटेंट
कार्य अनुभवआवेदक का कार्य अनुभव जरुरी है। यह 2 से 5 साल के बीच हो सकता है और कम से कम पिछले 1 साल मौजूदा पेशे में होना चाहिए।
आय
  • वेतनभोगी व्यक्ति का न्यूनतम मासिक आय 15,000 रूपए होना चाहिए
  • स्व-व्यवसायी व्यक्ति का न्यूनतम मासिक आय 20,000 रुपये होना चाहिए

Personal Finance Mobile 25

भारत में पर्सनल लोन के लिए सिबिल स्कोर क्यों महत्वपूर्ण है?

सिबिल स्कोर का मूल्यांकन लोन देने का एक महत्वपूर्ण भाग है। पर्सनल लोन के लिए यह बेहद जरूरी है क्योंकि ये लोन बिना जमानत के जारी किए जाते हैं। सिबिल स्कोर कर्जदारों के लिए भी मददगार होते हैं। भारत में पर्सनल लोन लेने के लिए सिबिल स्कोर महत्वपूर्ण क्यों है, इसके कारण निम्न हैं :-

प्रोफाइल – सिबिल स्कोर ऋणदाता को आवेदक की प्रोफाइल और पुनर्भुगतान क्षमता का आकलन करने में मदद करता है। अच्छा सिबिल स्कोर आवेदक के अच्छे वित्तीय व्यवहार को दिखता है। यह ऋणदाता के क्रेडिट जोखिम को कम करता है।

लोन आवेदन तुरंत स्वीकृति – उत्तम क्रेडिट स्कोर ऋणदाता का विश्वास जीतने में मदद करता है। उत्तम क्रेडिट स्कोर पात्रता मानदंडों को पूरी तरह से पूरा करते हैं, उन्हें शीघ्रता से संसाधित किया जाता है। लोन स्वीकृति और वितरण कुछ ही घंटों में हो जाता है!

ब्याज दर – लोन देने वाली बैंक द्वारा ब्याज की न्यूनतम दर आमतौर पर उन लोगों को दी जाती है जिनके पास उच्च क्रेडिट स्कोर होता है। उच्च क्रेडिट स्कोर के साथ, आवेदक को सबसे अनुकूल नियमों और शर्तों पर पर्सनल लोन लेने का मौका मिलता है।

लोन पात्रता बढ़ाता है – पर्सनल लोन पात्रता का आकलन करने का पहला पहलू क्रेडिट स्कोर है। उच्च क्रेडिट स्कोर वाले उधारकर्ता लंबी लोन अवधि में उच्च लोन राशि के लिए पात्र हैं।

कम क्रेडिट स्कोर के साथ पर्सनल लोन कैसे प्राप्त करें?

पर्सनल लोन के लिए एक अच्छा क्रेडिट स्कोर यह सुनिश्चित करता है कि आपको तुरंत लोन का अच्छा सौदा मिल जाए। दूसरी ओर, कम क्रेडिट स्कोर वाले पर्सनल लोन के लिए काफी मात्रा में जांच-पड़ताल की आवश्यकता होती है। लेकिन शुक्र है कि कम क्रेडिट स्कोर वाला पर्सनल लोन प्राप्त करना असंभव नहीं है। कम क्रेडिट स्कोर वाले पर्सनल लोन का लाभ उठाने में आपकी मदद करने के लिए यहां कुछ बातें बताई गई है :-

अपना क्रेडिट स्कोर चेक करें – जब आप पर्सनल लोन लेने की योजना बनाते हैं तो अपना क्रेडिट स्कोर चेक अवश्य करें। अगर आपका क्रेडिट स्कोर कम है तो तुरंत पर्सनल लोन के लिए अप्लाई न करें। आवेदन करने से पहले कम से कम तीन महीने के लिए अपने क्रेडिट स्कोर को बनाने की कोशिश करें।

कम क्रेडिट स्कोर के लिए पर्सनल लोन की ब्याज दरों की तुलना करें – यदि आपको तुरंत पर्सनल लोन की आवश्यकता है, तो विभिन्न उधारदाताओं द्वारा दी जाने वाली ब्याज दरों की तुलना करें। कम क्रेडिट स्कोर वाले पर्सनल लोन की कीमत अधिक होगी। इसलिए, सावधानीपूर्वक शोध करना और लागू होने वाले नियमों और शर्तों के साथ दिए गए लाभों की तुलना करना महत्वपूर्ण है।

अपनी चुकौती क्षमता का पता करें – लोन तभी लें जब आप उसे आराम से चुका सकें। यह महत्वपूर्ण है क्योंकि लोन के पुनर्भुगतान में किसी भी चूक से क्रेडिट स्कोर में अधिक गिरावट आएगी।

अपनी पात्रता की जांच करें – एक पूर्व-योग्यता या पात्रता जांच से आपको यह जानने में मदद मिलेगी कि आप अपने वर्तमान क्रेडिट स्कोर पर कितने लोन के लिए पात्र होंगे।

गारंटर प्रदान करें – एक सुरक्षित लोन हमेशा स्वीकृत है, भले ही आपका क्रेडिट स्कोर कम क्यूँ न हो। कम ब्याज के साथ पर्सनल लोन लेने के लिए गिरवी रखने पर विचार करें।

सह-आवेदक जोड़ें – पर्सनल लोन आवेदन में एक अच्छे क्रेडिट स्कोर वाले सह-आवेदक को जोड़ने से लोन पात्रता बढ़ जाती है।

सभी स्रोतों से आय शामिल करें – सभी स्रोतों से अपनी आय दर्शाएं। उच्च आय कम क्रेडिट के साथ भी पर्सनल लोन प्राप्त करने की संभावना को आसान बनाती है।

2022 में सिबिल स्कोर को अच्छा करने के उपाय

पर्सनल लोन के लिए अच्छा क्रेडिट स्कोर होना महत्वपूर्ण है, इसे कैसे बढ़ाया जा सकता है इसमें निम्न बातें शामिल हैं:-

समय पर बिल का भुगतान करें – क्रेडिट स्कोर को बढ़ाने के लिए सबसे अच्छा और आसान तरीका क्रेडिट कार्ड बिलों और ईएमआई का समय पर भुगतान करना है। समय पर चुकौती करना जिम्मेदारी को दर्शाता है।

न्यूनतम देय राशि – क्रेडिट कार्ड पर कुल बकाया का भुगतान नियत तारीख पर किया जाना चाहिए। न्यूनतम देय राशि और रिवॉल्विंग क्रेडिट का भुगतान करने से क्रेडिट स्कोर में गिरावट आती है।

सीमा से अधिक खर्च न करें – क्रेडिट कार्ड की सीमा के करीब पहुंचना या बार-बार पहुंचना एक चेतावनी संकेत है। इसे क्रेडिट पर भारी निर्भरता के साथ अत्यधिक खर्च माना जाता है।

उपयोग अनुपात कम रखें – यदि आप एक भारी क्रेडिट कार्ड उपयोगकर्ता हैं, तो अपने क्रेडिट उपयोग अनुपात को कम करने के लिए उच्च सीमा वाले क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन करें। क्रेडिट उपयोग क्रेडिट सीमा के 30% से अधिक नहीं होना चाहिए।

एक साथ कई लोन के लिए आवेदन न करें – एक समय में बहुत अधिक सक्रिय लोन या एक साथ कई उधारदाताओं को लोन के लिए आवेदन करना उधार देने वाली कंपनियों के साथ अच्छा नहीं होता है। इसके अलावा, लोन आवेदन की हर अस्वीकृति क्रेडिट स्कोर को नकारात्मक रूप से प्रभावित करती है।

नए क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन करें – कोई क्रेडिट इतिहास का न होना कम क्रेडिट स्कोर का एक कारण है। इसलिए, क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन करने और बकाया राशि का समय पर भुगतान करने से आपको एक अच्छा क्रेडिट स्कोर बनाने और बनाए रखने में मदद मिलती है। अलग-अलग क्रेडिट कार्ड प्रदाताओं के दो क्रेडिट कार्ड होने से क्रेडिट स्कोर को और बढ़ावा मिलेगा।

पर्सनल लोन के लिए अप्लाई करते समय ध्यान रखने वाली बातें

जब आप जान जाते हैं कि पर्सनल लोन के लिए कितना सिबिल स्कोर आवश्यक है, तो पर्सनल लोन के लिए आवेदन करते समय आपको कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए :-

पर्सनल लोन पात्रता की जाँच अवश्य करें – पर्सनल लोन तभी दिया जाएगा जब पात्रता की शर्तें पूरी हों। पात्रता शर्तों को पूरा किए बिना पर्सनल लोन के लिए अप्लाई करने से लोन रिजेक्ट हो सकता है जो क्रेडिट स्कोर को नुकसान पहुंचा सकता है।

सिबिल स्कोर चेक करें – अपना सिबिल स्कोर अवश्य पता करें। इसके अलावा, लोन देने वाली बैंक द्वारा आवश्यक पर्सनल लोन के लिए न्यूनतम क्रेडिट स्कोर की जांच करें। यह आपको हर नियमों और शर्तों पर पर्सनल लोन प्राप्त करने में सक्षम करेगा।

ब्याज दर रिसर्च करें – सबसे कम ब्याज दर पर पर्सनल लोन पाने के लिए ज़रूरी है कि प्रोडक्ट्स को ध्यान से देखें। लाभों का मूल्यांकन करें और विभिन्न उधारदाताओं द्वारा दिए गए पर्सनल लोन की विशेषताओं, ब्याज दर को सावधानीपूर्वक तुलना करें।

अपने क्रेडिट उपयोग अनुपात को कम करें – यदि आपके क्रेडिट कार्ड पर उच्च क्रेडिट उपयोग अनुपात है, तो बकाया राशि का तुरंत भुगतान करने पर विचार करें।

लोन अस्वीकृति के कारणों पर काम करें – यदि आपका पिछला लोन आवेदन अस्वीकार कर दिया गया था, तब तक नए लोन के लिए आवेदन न करें जब तक कि आप अस्वीकृति का कारण स्पष्ट नहीं कर देते। इसके अलावा, पर्सनल लोन के लिए दोबारा आवेदन करने से पहले कम से कम तीन महीने तक प्रतीक्षा करें।

Personal Finance Mobile 26

सिबिल स्कोर से सम्बंधित पूछे जाने वाले प्रश्न ( FAQs )

प्रश्न : पर्सनल लोन के लिए सिबिल स्कोर कितना आवश्यक है?

उत्तर : आमतौर पर पर्सनल लोन के लिए 750 या उससे अधिक के सिबिल स्कोर की जरुरत होती है। यदि सिबिल स्कोर 750 से कम है, तब भी आप उच्च ब्याज दर पर पर्सनल लोन प्राप्त कर सकते हैं, बशर्ते अन्य सभी पात्रता शर्तें पूरी हों।

प्रश्न : मैं पर्सनल लोन के लिए अपना सिबिल स्कोर कैसे सुधार सकता हूँ?

उत्तर : पर्सनल लोन के लिए अपना सिबिल स्कोर बढ़ाने के लिए इन बातों पर विचार करें

  • सबसे मुख्य है कि समय पर बिलों का भुगतान करें
  • अधिक खर्च न करें
  • क्रेडिट उपयोग अनुपात कम रखें
  • एक साथ बहुत सारे लोन के लिए अप्लाई न करें
  • नए क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन करें

प्रश्न : भारत में पर्सनल लोन प्राप्त करने के लिए सिबिल स्कोर क्यों महत्वपूर्ण है?

उत्तर : पर्सनल लोन लेने के लिए सिबिल स्कोर महत्वपूर्ण है क्योंकि:

  • यह साख का आकलन करने में मदद करता है
  • एक हाई क्रेडिट स्कोर लोन आवेदन प्रक्रिया को तेज करता है
  • कम ब्याज दर पर लोन लेने की अनुमति देता है
  • यह लोन पात्रता को बढ़ाता है

प्रश्न : सिबिल स्कोर की गणना कैसे की जाती है?

उत्तर : सिबिल स्कोर 300 से 900 के पैमाने पर मापा जाता है। यह चार कारकों को ध्यान में रखता है : भुगतान इतिहास (40%), क्रेडिट एक्सपोजर (25%), क्रेडिट प्रकार और अवधि (25%), और अन्य कारक (20%)।

प्रश्न : कितना क्रेडिट स्कोर बेस्ट माना जाता है ?

उत्तर : बेस्ट स्कोर की सूचि देखें :-

  • 800 से 900 के बीच के क्रेडिट स्कोर को सबसे उत्तम कहा जाता है
  • 750 से 800 के बीच के क्रेडिट स्कोर को अच्छा माना जाता है
  • 625 से 750 के बीच के क्रेडिट स्कोर को औसत माना जाता है
  • 625 से नीचे का क्रेडिट स्कोर खराब माना जाता है
nv-author-image

Neetin Shekhar

The main purpose of our Bankloanmarket blog is to make information related to loan, finance, credit card, share market accessible to the people. The purpose of creating this blog is only so that people can get the correct information about the bank or stock market. Through this blog, I have tried to share my knowledge related to finance. I hope you like it.