महामारी के कारण देश की आर्थिक स्थिति खराब हो गई थी, इस संकट को दूर करने के लिए सरकार ने आत्म निर्भर भारत अभियान को शुरू किया था।

आत्मनिर्भर भारत अभियान 1.0 के सफल होने के फलस्वरूप, सरकार ने आत्मनिर्भर भारत अभियान 2.0 एवं आत्म निर्भर भारत अभियान 3.0 शुरू किया है।

देश की अर्थव्यवस्था को आगे बढ़ाने के लिए आत्म निर्भर भारत अभियान 3.0 के तहत 12 नई योजनाएं शुरू की गई हैं।

आत्म निर्भर भारत अभियान 3.0 के तीन भाग हैं जिसमें नौकरी से लेकर व्यवसाय के सभी क्षेत्र शामिल हैं।

पहले भाग में उत्तर-पूर्वी क्षेत्र को शामिल किया गया है, जिसके लिए 200 करोड़ रुपए वितरित किए गए हैं।

असम की जनसंख्या और भौगोलिक क्षेत्र के मद्देनजर 450 करोड़ रुपए वितरित किए गए हैं।

दुसरे भाग में वे राज्य शामिल हैं, जो पहले भाग में नहीं आते और सरकार ने दुसरे भाग के लिए 7500 करोड़ रुपए की धनराशि वितरित किया है।

तीसरे भाग के तहत 2000 करोड़ रुपए उन राज्यों में वितरित किए गए हैं जो सरकार द्वारा निर्धारित चार सुधारों में से कम से कम तीन सुधार पर काम किये हैं।

वे चार सुधार इस प्रकार हैं - वन नेशन वन राशन कार्ड, ईज ऑफ डूइंग बिजनेस रिफॉर्म, यूटिलिटी रिफॉर्म और पावर सेक्टर रिफॉर्म।